Restrictions on Single Use Plastic

Restrictions on Single Use Plastic

एकल उपयोग वाले प्लास्टिक (Single Use Plastic) पर प्रतिबंध लगाने का फैसला

 

देश को प्रदूषण से मुक्त करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2019 को लाल किले से अपने संबोधन में प्लास्टिक के इस्तेमाल को पूरी तरह से बंद करने का सुझाव दिया। इसके बाद रेल मंत्रालय ने प्लास्टिक मुक्त देश बनाने के लिए प्लास्टिक के बने बैग व सामग्री पर रोक लगाने का फैसला किया है।

यह अभियान पूरे भारत में 02 अक्‍तूबर, 2019 से शुरू होगा। रेल मंत्रालय ने निर्देश निकले है की 2 अक्टूबर से 50 माइक्रोन से कम मोटाई वाली प्लास्टिक बैग और अन्य सामग्री के एकल उपयोग पर प्रतिबन्ध लगा दे।

क्या है एकल उपयोग वाले प्लास्टिक ? 

ऐसे प्लास्टिक, जिन्हें फेंकने या पुनर्नवीनीकरण से पहले केवल केवल एकबार ही उपयोग किया जाता है। जैसे- प्लास्टिक की थैलियाँ, स्ट्रॉ, सोडा और पानी की बोतलें तथा अधिकांशतः खाद्य पैकेजिंग के लिये प्रयुक्त होने वाली प्लास्टिक उन्हें एकल उपयोग वाले प्लास्टिक कहा जाता है।

निर्देश क्या है

• एकल या एकबारगी उपयोग वाली प्‍लास्टिक सामग्री पर प्रतिबंध लगाया गया है।

• सभी रेलवे वेंडरों को प्‍लास्टिक के बैग का उपयोग करने के लिए मना किया।

• कर्मचारियों को प्‍लास्टिक उत्‍पादों का उपयोग कम करना चाहिए, प्‍लास्टिक उत्‍पादों की रिसाइक्लिंग कर इसका फिर से इस्‍तेमाल करना चाहिए और इसके साथ ही फिर से उपयोग में लाए जाने वाले सस्‍ते बैगों का उपयोग करना चाहिए, ताकि प्‍लास्टिक के स्‍टॉक में कमी आए।

• आईआरसीटीसी विस्‍तारित उत्‍पादक जिम्‍मेदारी के हिस्‍से के रूप में प्‍लास्टिक की पेयजल वाली बोतलों को लौटाने की व्‍यवस्‍था लागू करेगा।

• प्‍लास्टिक की बोतलों को पूरी तरह तोड़ देने वाली मशीनें जल्‍द से जल्‍द उपलब्‍ध कराई जाएंगी।

• रेलवे की सुविधाओं का उपयोग करने वालों (यूजर) के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए सूचना, शिक्षा और संचार (आईईसी) संबंधी उपाय अपनाए जाएंगे।

चर्चा में क्यों है?

हल ही में यूरोपीय संसद ने 28 मार्च 2019 को एकल उपयोग (सिंगल-यूज़) वाले प्लास्टिक उत्पादों पर प्रतिबंध लगाने के लिए मतदान किया है। इसमें प्लास्टिक कचरे के खिलाफ यूरोपीय संसद ने समुद्र तटों को प्रदूषित करने वाले महासागरों और समुद्रों में उपस्थित एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक कचरों जैसे की कटलरी, स्ट्रा, कपास की कलियों आदि पर प्रतिबंध लगाने के लिये मतदान किया है।

यूरोपीय संसद के सदस्यों द्वारा किया गया मतदान यूरोपीय संघ के सभी सदस्य देशों में साल 2021 तक एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। यह प्रतिबंध समुद्री जीवन की रक्षा में मदद के लिए कचरे के खिलाफ एक व्यापक कानून के तहत किया गया है।

उद्देश्य और फायदे:-

इसका मुख्य उद्देश्य कई सामान्य प्लास्टिक वस्तुओं के प्रयोग को रोकना है जिनमें स्ट्रॉ, कपास की कलियों, कटलरी, गुब्बारे की स्टिक आदि शामिल हैं। प्रशासनिक निकाय साल 2025 तक रीसाइक्लिंग हेतु लगभग सभी प्लास्टिक की बोतलों को भी इकट्ठा करना चाहता है। यूरोपीय संघ का अनुमान है कि ये प्रतिबंध लगभग 3.4 मिलियन टन कार्बन उत्सर्जन से बचने में मदद करेगा।